पूजय गुरुदेव के साथ र४ गायत्री मंत्र

पूजय गुरुदेव के साथ र४ गायत्री मंत्र, र४००० गायत्री मंत्र के बराबर शकितशाली हैं

परम पूजय गुरुदेव स्वयं कहते है- “हमारे साथे र४ गायत्री मंत्र बोलने से आप लोगो को गायत्री मंत्र का शुद्ध उचारण आ जायेगा और आप लोगों के बोलने के साथ-साथ में हमारी वाणी का भी समावेश हो जायेगा | हमारी कई वाणिया र्है | आपके तो एक ही वाणी है – बैखरी | हमारे पास मघ्यमा वाणी भी है, परावाणी भी है, पश्यन्ति वाणी भी है | ईन चारों वाणियों को मिलाकर के हम मंत्र बोलते है, तो र४ मंत्र हम बोलेंगे, हमारे साथ-साथ आप भी बोलना शुरु कर दीजिये | इस तरीके से र४ मंत्र हम बोलेंगे, हमारे साथ साथ आप भी बोलना शुरु कर दीजिए | इस तरीके से र४ मंत्र समजीए कि र४ हजार मंत्रो के बराबर शकितशाळी होंगे, कयोकि उसमें हमारी वाणी का समावेश है |”

-यज्ञ की महत्ता एवं वातावरण का परिशोधन, प्रवचन से |

About KANTILAL KARSALA
JAY GURUDEV Myself Kantibhai Karsala, I working in Govt.Office Sr.Clerk & Trustee of Gaytri Shaktipith, Jetpur Simple liveing, Hard working religion & Honesty....

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: