प्राणायाम से आधि-व्याधि निवारण

प्राणायाम से आधि-व्याधि निवारण

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

प्राणायाम से आधि-व्याधि निवारण
1
2 प्राणशक्ति से संकल्प बल का अभिवर्धन, प्रसुप्त का जागरण
3 प्राणायाम मनोबल वर्धक एक श्रेष्ठ उपचार पद्धति
4 प्राणायाम चिकित्सा से मनोविकार का उपचार
5 प्राणयोग साधना के आध्यात्मिक प्रयोग
6 प्राण का स्वरूप एवं तत्त्वज्ञान
7 प्राणशक्ति से संकल्प बल का अभिवर्धन, प्रसुप्त का जागरण
8 प्राणायाम मनोबल वर्धक एक श्रेष्ठ उपचार पद्धति
9 प्राणायाम चिकित्सा से मनोविकार का उपचार
10 प्राणयोग साधना के आध्यात्मिक प्रयोग

सात्विक जीवनचर्या और दीर्घायुष्य

सात्विक जीवनचर्या और दीर्घायुष्य

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

सात्विक जीवनचर्या और दीर्घायुष्य
1
2 लम्बी उम्र के तीन साधन
3 दीर्ध जीवन के स्वर्ण सूत्र
4 सात अनुभूत महामंत्र
5 दीर्घ जीवन के आध्यात्मिक कारण ।
6 विचारशील लोग दीर्घायु होते हैं
7 सतत श्रमशील रहें-दीर्घ जीवन जिएँ
8 दीर्घ आयु प्राप्ति का रहस्य
9 सात्विक आहार विहार का उपहार-दीर्घायुः
10 आरोग्य और दीर्घ जीवन इस तरह प्राप्त करें
11 लम्बी उम्र के तीन साधन
12 दीर्ध जीवन के स्वर्ण सूत्र
13 सात अनुभूत महामंत्र
14 दीर्घ जीवन के आध्यात्मिक कारण ।
15 विचारशील लोग दीर्घायु होते हैं
16 सतत श्रमशील रहें-दीर्घ जीवन जिएँ
17 दीर्घ आयु प्राप्ति का रहस्य
18 सात्विक आहार विहार का उपहार-दीर्घायुः

असंयम बनाम आत्मघात

असंयम बनाम आत्मघात

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

असंयम बनाम आत्मघात
1
2 धर्म साधन में शरीर रक्षा का महत्त्व
3 आरोग्य का मूल महत्व समझें
4 गम्भीर एवं महत्त्वपूर्ण समस्या
5 हनुमान जी की सच्ची उपासना
6 हम स्वास्थ्य और शक्ति की उपेक्षा न करें
7 स्वास्थ्य सुधार के लिए धैर्य की आवश्यकता
8 उतावली न की जाय
9 आरोग्य रक्षा के प्रति सतर्क रहें
10 शरीरमाद्यं खलु धर्मसाधनम्
11 धर्म साधन में शरीर रक्षा का महत्त्व
12 आरोग्य का मूल महत्व समझें
13 गम्भीर एवं महत्त्वपूर्ण समस्या
14 हनुमान जी की सच्ची उपासना
15 हम स्वास्थ्य और शक्ति की उपेक्षा न करें
16 स्वास्थ्य सुधार के लिए धैर्य की आवश्यकता
17 उतावली न की जाय
18 आरोग्य रक्षा के प्रति सतर्क रहें

स्वास्थ्य रक्षा प्रकृति के अनुसरण से ही संभव

स्वास्थ्य रक्षा प्रकृति के अनुसरण से ही संभव

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

स्वास्थ्य रक्षा प्रकृति के अनुसरण से ही संभव
1
2 आधुनिक कृत्रिम रहन-सहन अर्थात् रोगों को आमंत्रण
3 जीवनी शक्ति बढ़ाए, वही चिकित्सा उचित है
4 स्वास्थ्य की कुँजी अपनी मुट्ठी में
5 आहार शुद्धि भी उतनी अनिवार्य
6 आरोग्य एवं चिर यौवन का रहस्योद्घाटन
7 प्रफुल्लता सुगठित स्वास्थ्य हेतु अनिवार्य आवश्यकता
8 उपवास एक समर्थ उपचार पद्धति
9 दीर्घायुष्य एक बहुमूल्य वरदान
10 स्वास्थ्य को भी महत्त्व मिले
11 प्राकृतिक जीवन हर दृष्टि से निरापद
12 आधुनिक कृत्रिम रहन-सहन अर्थात् रोगों को आमंत्रण
13 जीवनी शक्ति बढ़ाए, वही चिकित्सा उचित है
14 स्वास्थ्य की कुँजी अपनी मुट्ठी में
15 आहार शुद्धि भी उतनी अनिवार्य
16 आरोग्य एवं चिर यौवन का रहस्योद्घाटन
17 प्रफुल्लता सुगठित स्वास्थ्य हेतु अनिवार्य आवश्यकता
18 उपवास एक समर्थ उपचार पद्धति
19 दीर्घायुष्य एक बहुमूल्य वरदान
20 स्वास्थ्य को भी महत्त्व मिले

चिरयुवा का रहस्योद्गाटन

घरेलू चिकित्सा

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

चिरयुवा का रहस्योद्गाटन
1 जीवन रस को छक कर पीते ये चिर युवा
2 दीर्घायुष्य का रहस्य
3 आयु और स्वास्थ्य शरीर पर नहीं, मन पर निर्भर
4 ये भ्रान्तिपूर्ण मान्यता मिटेगी तो ही शरीर स्वस्थ होगा
5 आहार पोषक ही नहीं, शुद्ध भी हो
6 आसन व्यायाम स्वस्थ व पुष्ट शरीर के लिए अत्यन्त अनिवार्य
7 सूर्य सेवन से जीवनी शक्ति बढ़ाइए
8 जड़ीबूटी प्रयोग उपचार की एक पूर्णतः नैसर्गिक विद्या
9 जीवन रस को छक कर पीते ये चिर युवा
10 दीर्घायुष्य का रहस्य
11 आयु और स्वास्थ्य शरीर पर नहीं, मन पर निर्भर
12 ये भ्रान्तिपूर्ण मान्यता मिटेगी तो ही शरीर स्वस्थ होगा
13 आहार पोषक ही नहीं, शुद्ध भी हो
14 आसन व्यायाम स्वस्थ व पुष्ट शरीर के लिए अत्यन्त अनिवार्य
15 सूर्य सेवन से जीवनी शक्ति बढ़ाइए
16 जड़ीबूटी प्रयोग उपचार की एक पूर्णतः नैसर्गिक विद्या

बिना औषधि के कायाकल्प

बिना औषधि के कायाकल्प

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

बिना औषधि के कायाकल्प
1 पीछे की ओर लौटो
2 उत्तम स्वास्थ्य के चार सूत्र
3 कमजोरी और बीमारी का कारण
4 कलपुर्जों की सफाई
5 शरीर शुद्धि और कायाकल्प
6 पीछे की ओर लौटो
7 उत्तम स्वास्थ्य के चार सूत्र
8 कमजोरी और बीमारी का कारण
9 कलपुर्जों की सफाई
10 शरीर शुद्धि और कायाकल्प

घरेलू चिकित्सा

घरेलू चिकित्सा

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

घरेलू चिकित्सा
૨૯ घरेलू चिकित्सा(मलेरिया)
विषम ज्वर ૩૦ विषम ज्वर
संतत ज्वर ૩૧ संतत ज्वर
जाङे का बुखार ૩૨ जाङे का बुखार
लु लगने का बुखार ૩૩ लु लगने का बुखार
तिल्ली बड़ने पर ૩૪ तिल्ली बड़ने पर
चेचक ૩૫ चेचक
खांसी ૩૬ खांसी
सर्दी-जुकाम ૩૭ सर्दी-जुकाम
૧૦ श्वांस ૩૮ श्वांस
૧૧ हिचकी ૩૯ हिचकी
૧૨ गला बैट जाना और गले का दरद ૪૦ गला बैट जाना और गले का दरद
૧૩ प्रमेह ૪૧ प्रमेह
૧૪ शीघ्र पतन ૪૨ शीघ्र पतन
૧૫ बहुमूत्र ૪૩ बहुमूत्र
૧૬ वात्-व्याधि ૪૪ वात्-व्याधि
૧૭ विषों का उपचार ૪૫ विषों का उपचार
૧૮ आग के जलने पर ૪૬ आग के जलने पर
૧૯ आखें दुखना ૪૭ आखें दुखना
૨૦ कान का दर्द और बहना ૪૮ कान का दर्द और बहना
૨૧ रक्त विकार ૪૯ रक्त विकार
૨૨ सुखी उबकाई-बमन ૫૦ सुखी उबकाई-बमन
૨૩ हैजा ૫૧ हैजा
૨૪ अनिद्रा ૫૨ अनिद्रा
૨૫ दस्त ૫૩ दस्त
૨૬ बवासीर ૫૪ बवासीर
૨૭ मोटापा ૫૫ मोटापा
૨૮ बच्चों के रोगो की चिकित्सा ૫૬ बच्चों के रोगो की चिकित्सा

समग्र स्वास्थ्य संवर्धन कैसे हो ?

समग्र स्वास्थ्य संवर्धन कैसे हो ?

|| ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात् ||

 (उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अन्तःकरण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करे ।)

e-Books: Holistic Health By Pt. Shriram Sharma Aacharya (1911-1990)

|| May the almighty illumine our intellect to the righteous path ||

Please find below listed books on Holistic Health

દરેક આર્ટીકલ્સ નિયમીત  ઈ-મેઈલ દ્વારા મેળવો.

समग्र स्वास्थ्य संवर्धन कैसे हो ?
स्वास्थ्य गँवा बैठने में कोई समझदारी नहीं
स्वास्थ्य रक्षा की छोटी किन्तु महत्त्वपूर्ण बातें
मानसिक संतुलन इस प्रकार सही हो
समग्र स्वास्थ्य का शुभारम्भ आत्मनिर्माण से
समर्थ प्रगतिशीलता कैसे अर्जित हो
परिवार परिकर की सदस्यता
स्वास्थ्य क्या है
स्वास्थ्य गँवा बैठने में कोई समझदारी नहीं
૧૦ स्वास्थ्य रक्षा की छोटी किन्तु महत्त्वपूर्ण बातें
૧૧ मानसिक संतुलन इस प्रकार सही हो
૧૨ समग्र स्वास्थ्य का शुभारम्भ आत्मनिर्माण से
૧૩ समर्थ प्रगतिशीलता कैसे अर्जित हो
૧૪ परिवार परिकर की सदस्यता

 

 

%d bloggers like this: